Monday, February 1, 2010

पिता से..

रास्तों की ज़हमतों का उनको कैसे दें सबूत,
कि पाँव के छाले भी मेरे मील के पत्थर हुए।

1 comment:

  1. brilliant...i love the way balloo uncle recites this one!

    ReplyDelete